आम ना जाने, धाम ना जाने
जाने ना सेवा पूजा
जाने बस इतना अज़ान हम
एक बिना नहीं दूजा

तुम आशा विश्वास हमारे
तुम धरती आकाश हमारे, रामा

टाट मॅट तुम, बन्धु भ्रात हो
दिवस रात्रि, स्नध्या प्रभात हो
दीपक सूर्य चन्द्र तारक में रामा
तुम ही ज्योति प्रकाश हमारे, रामा
तुम आशा विश्वास हमारे
तुम धरती आकाश हमारे, रामा

साँसों में तुम आते जाते
एक तुम ही से हैं सब नाते
जीवनवान के हर पतज़र में रामा
एक तुम ही मधुमास हमारे, रामा
तुम आशा विश्वास हमारे
तुम धरती आकाश हमारे, रामा

तुम ही सब में हैं तुम में सब
तुम ही भाव हो, हो तुम ही रब
अश्रु हमारी आँखों में तुम, रामा
तुम होतों पर हास हमारे, रामा
तुम आशा विश्वास हमारे
तुम धरती आकाश हमारे, रामा

टाट मॅट तुम, बन्धु भ्रात हो
दिवस रात्रि, स्नध्या प्रभात हो
दीपक सूर्य चन्द्र तारक में रामा
तुम ही ज्योति प्रकाश हमारे, रामा
तुम आशा विश्वास हमारे
तुम धरती आकाश हमारे, रामा


Post a Comment

Previous Post Next Post